हेल्थ टिप्स हिन्दी

रात को दही क्यों नहीं खाना चाहिए?

रात को दही बहुत से लोग नहीं खाते हैं, आयुर्वेद के अनुसार इससे पेट संबंधित रोग होते हैं Why should not eat curd at night?

सैकड़ों सालों से दही के फायदों को देखते हुए मनुष्यों द्वारा इसका सेवन किया जाता आ रहा है। यह बहुत पौष्टिक आहार है, और इसे नियमित रूप से खाने से आपके स्वास्थ्य के कई पहलुओं को बढ़ावा मिलेगा। उदाहरण के लिए, दही हृदय रोग और ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करने के साथ-साथ वजन प्रबंधन में सहायता भी मिल गया है। दही के फायदे तो बहुत है लेकिन दही कब खाना चाहिए इसके बारे में आपको जानकारी है?

रात को दही क्यों नहीं खाना चाहिए?

रात को दही क्यों नहीं खाना चाहिए?

आमतौर पर घर में रात के समय दही खाना गलत माना जाता है। आयुर्वेद के अनुसार रात के समय दही खाने से बलगम का विकास होता है। आयुर्वेद की माने तो दही रात को नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इससे शरीर में कफ दोष बढ़ता है और पेट संबंधित बीमारियां भी उत्पन होती है। दही का सही समय दोपहर माना गया है। दोपहर के समय दही खाने से आपका पेट सही रहता है।

इसके आलावा यदि आपको समय समय पर सर्दी-जुकाम हो जाता है तो रात के समय भूलकर भी दही न खाएं। इससे पेचिश होने का खतरा बढ़ जाती है। यदि आप रात में दही खाने के आदती हैं तो आप उसमें कुछ मात्रा में काली मिर्च मिला सकते हैं। आप चाहे तो रायता तैयार कर सकते हैं, जिसमें आप टमाटर, प्याज, खीरा, कद्दू, कटी हुई हरी मिर्च आदि डाल सकते हैं। इसके अलावा कढ़ी बनाते समय भी आप दही का उपयोग कर सकते हैं।

दही कैसे बनता है

दही कैसे बनता है

दही दूध की बैक्टीरिया किण्वन द्वारा बनाई गई लोकप्रिय डेयरी उत्पाद है। दही बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले बैक्टीरिया बहुत ही हेल्दी होते हैं, जो हमारे शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं। यह प्रक्रिया लैक्टिक एसिड का उत्पादन करती है। लैक्टिक एसिड एक ऐसा पौष्टिक तत्व है जो दूध प्रोटीन को दही से दोगुना करता है, दही को अपनी अद्वितीय स्वाद और बनावट देता है।

दही में लैक्टिक एसिड पाया जाता है जो रोमछिद्रों को दुरुस्त रखने तथा डेड स्किन सेल्स को त्वचा से हटाने में सहायता करता है। दही सभी प्रकार के दूध से बनाया जा सकता है। स्किम दूध से बने किस्मों को वसा रहित माना जाता है, जबकि सामान्य दूध से बने पदार्थ को पूर्ण वसा वाला दही माना जाता है।

दही के फायदे

1. दही हृदय स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है। यह एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने का काम करता है।
2. कैल्शियम, प्रोटीन, पोटेशियम, फास्फोरस और विटामिन डी से भरपूर दही ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी के खिलाफ संरक्षण का काम करता है।
3. दही आपकी इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकता है।
4. जो लोग नियमित रूप से दही का सेवन करते हैं उनकी पाचन शक्ति में सुधार देखने को मिलता है।
5. दही प्रोटीन का एक प्रभावशाली मात्रा प्रदान करता है। प्रोटीन को आपकी ऊर्जा या कैलोरी की संख्या को बढ़ाकर मेटाबॉलिज्म का समर्थन करने के लिए दिखाया गया है।
6. एक हालिया अध्ययन पाया गया है कि यदि आप दही का सेवन करते हैं, तो इससे आपको कैलोरी कम करने में मदद मिलेगी। यह पेट वसा को बर्न करने में भी मदद करता है।

डिसक्लेमर : Sehatgyan.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatgyan.com की नहीं है। sehatgyan.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।