शरीर के अंग

शरीर के अंग – जानकारी, बीमारियां और उनके घरेलू उपचार – Body parts ( Sharir ke ang ) information, their functions, diseases, treatments and home remedies in hindi.

फेफड़े हेल्थ टिप्स हिन्दी

फेफड़ों के रोगों से बचाव – अचूक घरेलू उपाय

दुनिया भर में बढ़ते प्रदुषण की वजह से फेफड़ों का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता जा रहा है, इसलिए आज हम बात करेंगे फेफड़ों के रोगों से बचाव के बारे में।

शरीर के अंग

अंगदान संबंधी प्रचलित 9 मिथक

अंगदान से किसी दूसरे शख्स की जिंदगी को बचाया जा सकता है। हर वर्ष लाखों लोग मात्र इस वजह से मौत के मुंह में समा जाते हैं, क्योंकि उन्हें कोई डोनर नहीं मिल पाता।

योग मुद्रा रीढ़ की हड्डी

पीठ दर्द के लिए 6 योगासन

योग जिसमें आपकी मांशपेशियों को मजबूत व लचीला बनाने पर जोर दिया जाता है, जो कमरदर्द को कम करने में आपकी मदद करता है। अन्य बहुत सी शोधों में इसे कमरदर्द के लिए रामबाण माना गया है।

शरीर के अंग हेल्थ टिप्स हिन्दी

शराब के दुष्परिणाम – ये 7 अंग होते हैं खराब

कुछ लोग मानते हैं कि शराब का सेवन करने से त्वचा और पाचन शक्ति पर बहुत ही प्रभाव पड़ता है, इसके इलावा भी शराब के दुष्परिणाम बहुत ज्यादा हैं ।

गला घरेलू नुस्खे - घरेलू उपचार

गले की गांठ के लक्षण और उपचार

थायराइड ग्रंथि हमारे शरीर को ऊर्जा प्रदान करती है. क्योंकि इसके द्वारा ऊर्जा देने वाले हार्मोन का निर्माण होता है। इसी के कारण अक्सर गले में गांठ भी बन जाती है।

लीवर

लीवर की देखभाल – ये चीजें पहुंचाती हैं नुकसान

ऐसा भी नहीं है कि केवल शराब के सेवन से ही हमारा लीवर खराब होता है। इसके साथ हमारी ओर भी कई ऐसी आदतें होती है जिन पर ध्यान नहीं देते। आइये आज हम उन बातों को समझे जिनसे हमारे लीवर पर गहरा असर होता...

लीवर हेपेटाइटिस सी

हेपेटाइटिस सी और लिवर की अन्य बीमारी के लिए स्वस्थ आहार

लिवर या जिगर शरीर की ताकत होती है। यह शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग होता है और कई महत्वपूर्ण कार्यों को करने में मदद करता है। यह एक कुशल इंजन और फिल्टर का काम करता है।

जीभ

क्या है जीभ और इसके रोग

जीभ के बीच वाले भाग में कलिकाओं का अभाव होने के कारण यहाँ से किसी भी प्रकार के स्वाद के बारे में पता नहीं किया जा सकता। जीभ हमारे मुख के तल पर एक पेशी के रूप में होती है जो हमारे भोजन को चबाने और...

शरीर के अंग

पसली की संरचना और उसके रोग

पसलियाँ हमारी छाती के चारों और होती है साथ ही यह हमारे फेफड़ों को सक्षम करके और हमारे फेफड़ों, ह्रदय, छाती और हमारे शरीर के आंतरिक अंगों की रक्षा करने का काम करती है।