Category - योग मुद्रा

जाने योग मुद्रा, योग साधना और योग के फायदे या लाभ जिसमे योग के प्रकार, योग के आसन आदि की जानकारी भी सम्मिलित है, Yoga Tips Hindi.

योग मुद्रा

सीत्कारी प्राणायाम की विधि और फायदे

ऐसा माना गया है कि इस प्राणायाम को करते समय 'सीत्‌ सीत्‌' की आवाज निकलती है। इसलिए लोगों ने इसे सीत्कारी कुम्भक या प्राणायाम का नाम दिया है। यह एक बेहतरीन प्राणायाम है।

योग मुद्रा

थकान दूर करने के उपाय – करें यह योग

किसी भी स्वस्थ्य व्यक्ति के लिए इन आसनों का बहुत ही महत्व है। जो लोग योग और प्राणायाम को समझते हैं उन्हें इन आसनों की जानकारी है। ज्यादातर ये आसन व्यायाम या प्राणायाम के बाद किया जाता है।

महिला स्वास्थ्य योग मुद्रा

शशांक भुजंगासन करने की विधि और लाभ

योग में ऐसे बहुत से प्राणायाम और व्यायाम है जो खास तौर पर महिलाओं के लिए लाभकारी माना जाता है हालांकि इसे पुरुष भी कर सकते हैं। ऐसे ही एक आसन है शशांक भुजंगासन। इस आसन को हम कोबरा पोज भी कहते...

योग मुद्रा

शलभासन योग की विधि और लाभ

कमर में दर्द होने की वजह से काम करने में परेशानी होती है। हमारा ध्यान काम पर कम अपने कमर के दर्द पर ज्यादा होता है। जिन लोगों को कमर दर्द की समस्या है उनके लिए शलभासन एक उपयोगी आसन है।

योग मुद्रा

लम्बाई बढ़ाने के तरीके – बहुत असरदार हैं यह योग

यदि आप लंबाई को बढ़ाना चाहते हैं तो कुछ पौष्टिक आहारों को नियमित रूप से अपने आहार में शामिल करें तथा नियमित रूप से लंबाई बढ़ाने वाले व्यायाम करें।

घरेलू नुस्खे - घरेलू उपचार योग मुद्रा

कलाई में दर्द – कारण, घरेलू उपचार और योग

कलाई में दर्द एक आम बात है लेकिन जब भी कलाई में दर्द होता है तो न तो हम कोइ काम कर सकते हैं और न ही किसी प्रकार का वजन उठा सकते हैं |

योग मुद्रा

हंसासन योग की विधि और फायदे

अगर आप नियमित रूप से हंसासन योग को करते हैं तो आप की रीढ़ की हड्डीयों से जो समस्याएं जुडी हुई है वो आप से दूर हो जाती है। इसको करने से आपको किसी प्रकार की शारीरिक दर्द का सामना नहीं करना पड़ता।

योग मुद्रा

चन्द्र नमस्कार की विधि, लाभ और सावधानियां

इनसे हमें जो शीतलता मिलती है उससे हमारी तंत्रिका तंत्र को भी बहुत लाभ प्राप्त होता है। जब भी हम चंद्र नमस्कार करते हैं तब उसके विभिन्न प्रकार के चरण आते हैं जो इस प्रकार से हैं..

योग मुद्रा

सुप्त वज्रासन के लाभ और विधि

इस आसन को जब भी हम करते हैं, तो पीठ के बल लेट कर करते हैं इसलिए इस आसन को सुप्त वज्रासन के नाम से जाना जाता है, लेकिन जो वज्रासन होता है उसको हम बैठ कर करते हैं।

All for Joomla All for Webmasters