घरेलू नुस्खे - घरेलू उपचार दांतों की देखभाल

दांतों में झुनझुनी के कारण और घरेलू उपचार

दांतों में झुनझुनी के कारण और घरेलू उपचार

आपके दांत बहुत संवेदनशील होते हैं और दांतों में झुनझुनी एक असामान्य सेनसेशन है। कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थ हैं जो बहुत गर्म या ठंडे हैं, उनके संपर्क में आने पर दांतों में एक दर्दनाक दर्द या झुनझुनी और सुन्नता हो सकती है। यह बहुत जरूरी है कि आप दांतों में झुनझुनी के कारणों का पता लगाएं। इसे उचित रूप से प्रबंधित करने के लिए दांत के डॉक्टर से बात करें।

दांतों में झुनझुनी पल्पिपिटिस का संकेत है। इस स्थिति में आपके दांत के तंत्रिका और रक्त वाहिका हिस्से की सूजन या दंत पल्प शामिल है। जब इफ्लेम्ड ब्लड वेसेल को पल्प में तंत्रिकाओं पर दबाया जाता है, झुनझुनी या दर्द आपके दांत में हो सकता है।

दांतों में झुनझुनी के कारण

  • दांत फोड़े
  • दांतों के कैविटी
  • दांतों या मसूड़ों का आघात
  • प्रभावित दांत
  • जबड़ा से संदर्भित दर्द
  • पल्पिपिटिस

दांतों में झुनझुनी के घरेलू उपचार

सरसों का तेल

सरसों का तेल

सरसों का तेल, भारतीय रसोई में प्रयोग किया जाने वाला एक तेल है, जो स्वास्थ्य लाभ के साथ-साथ बाल विकास बढ़ावा देने में बहुत ही मदद करता है। दांतों में झुनझुनी दूर करने के लिए एक चम्मच सरसों के तेल में एक छोटा चम्मच सेंधा नमक मिलाएं और इससे मसूढ़ों की हल्की मसाज करें। 5 मिनट के बाद गुनगुने पानी से अच्छी तरह कुल्ला कर लें जिससे दांतों में झुनझुनी लगना बंद हो जाएगा।

तिल, नारियल और सरसों का तेल

तिल, नारियल औऱ सरसों का तेल

तिल स्वाद के साथ-साथ खाने के लिए भी बहुत ही गुणकारी है। इसके स्वास्थ्य लाभ की अगर बात करें तो इसमें विटामिन, खनिज, प्राकृतिक तेलों और कार्बनिक यौगिकों सहित कैल्शियम, लोहा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, मैंगनीज, तांबा, जस्ता, फाइबर, थायामिन, विटामिन बी6, फोलेट, प्रोटीन और ट्रिप्टोफैन आदि शामिल है।

दांतों में झुनझुनी के लिए आप एक चम्मच तिल का तेल, एक चम्मच नारियल तेल और एक चम्मच सरसों का तेल लेकर अच्छी तरह मिलाएं। अब इस तेल से दांतों और मसूढ़ों की अच्छी तरह मालिश करें। दिन में 2-3 बार ऐसा करने से झनझनाहट दूर होगी।

काले तिल

दांतों की झनझनाहट को ठीक करने के लिए काले तिल भी गुणकारी होते हैं। काले तिल के बीज में अन्य किस्मों की तुलना में अधिक तीव्र स्वाद और सुगंध है। इसके लिए दिन में 2 बार 1-1 चम्मच काले तिल को अच्छी तरह चबाएं।

कैल्शियम और विटामिन डी वाले खाद्य पदार्थ

आप अपने डाइट में कैल्शियम और विटामिन डी वाले खाद्य पदार्थ जैसे दूध, पनीर, दही, अंडे और मछली को शामिल करें। इसके अलावा आप नींबू, संतरे, इमली आदि जैसे अम्लीय खाद्य पदार्थों का परहेज कीजिए।

दांतों को स्वस्थ्य रखने के टिप्स

दांतों को स्वस्थ्य रखने के टिप्स

1. दिन में कम से कम दो बार ब्रश करें। इसके अलावा दांतों को ब्रश करने का सबसे अच्छा समय भोजन के बाद होता है।
2. फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का उपयोग करें। फ्लोराइड दांत एनामेल को हार्ड करने में मदद करता है और आपके सड़न के जोखिम को कम करता है।
3. टूथ ब्रशिंग दो और तीन मिनट के बीच करना चाहिए। टूथ ब्रशिंग के अलावा आप फ्लोसिंग करना न भूलें।
4. अगर आपको दांत की समस्या है जैसे दांत दर्द या मसूड़ों से खून आना आदि तो आपको अपने दंत चिकित्सक से नियमित रूप से मिलना चाहिए।

डिसक्लेमर : Sehatgyan.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatgyan.com की नहीं है। sehatgyan.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

2 Comments

  • Hi, i feel that i saw you visited my blog so i got here to go back
    the favor?.I’m attempting to in finding things to improve my website!I guess its ok to
    use some of your ideas!!
    +905443535397

  • Howdy! I could have sworn I’ve been to this blog before but after checking through some of the post I realized it’s new to me.
    Nonetheless, I’m definitely happy I found it and I’ll
    be book-marking and checking back frequently!

Leave a Comment