घरेलू नुस्खे - घरेलू उपचार

मिर्गी के घरेलू उपचार

मिर्गी के घरेलू उपचार

मिर्गी मस्तिष्क में पैदा होने वाली एक मस्तिष्क संबंधी विकार है। इसमें प्रभावित व्यक्ति के न्यूरॉन्स गलत सिग्नल भेजते हैं। यह शरीर को धीमा काम करता है और इसमें आपको दौरा पड़ने लगता है। मिर्गी के आम लक्षणों में मांसपेशियों में खिंचाव, अचानक पेशाब, उल्टी, चेतना की हानि, डिहाइड्रेशन, पैरों और हाथों में जोरदार झटका आदि शामिल है। हालांकि, कुछ घरेलू उपचार की सहायता से, आप मिर्गी को प्रभावी ढंग से इलाज कर सकते हैं।

मिर्गी के घरेलू उपचार

मिर्गी का देसी इलाज है सेंधा नमक

सेंधा नमक मैग्नीशियम में समृद्ध है जो प्रभावित व्यक्ति के मस्तिष्क से निकलने वाले विद्युत संकेतों को नियंत्रित करता है। इसके अलावा, मैग्नीशियम मिर्गी के कारण होने वाले के जोखिम को कम करता है। यह मिर्गी का देसी इलाज के तौर पर काम करता है।

मिर्गी का उपचार है नारियल पानी

मिर्गी का उपचार है नारियल पानी

हाल के वर्षों में, नारियल का पानी बहुत फैशनेबल पेय बन गया है। यह स्वादिष्ट, ताज़ा है और आपकी त्वचा लिए बहुत अच्छा होता है। यह खनिजों सहित कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों के साथ भरी हुई है। नारियल का पानी बहुत अधिक प्रभावी है। नारियल का पानी पीना हाइड्रेटेड और शरीर के कामकाज में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है। यह मिर्गी के उपचार के तौर पर काम करता है।

मिर्गी में फायदेमंद है दूध

दूध हड्डियों के लिए अच्छा है क्योंकि यह कैल्शियम का एक समृद्ध स्रोत प्रदान करता है, जो स्वस्थ हड्डियों और दांतों के लिए आवश्यक खनिज है। गाय का दूध विटामिन डी के साथ दृढ़ है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य को भी लाभ देता है। कैल्शियम और विटामिन डी ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में मदद करते हैं।

इसके अलावा कैल्शियम एक प्रभावी, प्राकृतिक इलेक्ट्रोलाइट है, जो आपके रक्त जमावट, तंत्रिकाओं के संवाहन, शरीर की मांसपेशियों के सामान्य कार्य के लिए आवश्यक है। दूध मिर्गी के घरेलू उपचार के तौर पर भी काम करता है। मिर्गी को ठीक करने के लिए हर रोज एक या दो गिलास दूध पीना एक आदत बनाएं।

मिर्गी दौरा की दवा है तुलसी

मिर्गी दौरा की दवा है तुलसी

तुलसी के कई लाभ हैं। तुलसी को कई भारतीय घरेलू उपचारों में सबसे सामान्य और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। तुलसी कई बीमारियों में रामबाण की तरह कम करता है। यह श्वसन संबंधी विकारों से राहत, साथ ही बुखार, अस्थमा, फेफड़े के विकार, हृदय रोग और तनाव के उपचार में बहुत ही उपयोगी है।

इसके अलावा मिर्गी दौरा की दवा में तुलसी भी बहुत ही प्रभावशाली है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो मस्तिष्क में फ्री रेडिकल्स को ठीक करते हैं। तुलसी के पत्तों को पीसकर शरीर पर मलने से मिर्गी के रोगी को फायदा होता है। इसके अलावा तुलसी की पत्तियों के साथ कपूर सुंघाने से मिर्गी के मरीज को होश आ जाता है।

ताजे फल का रस

जब प्रभावित व्यक्ति के शरीर में सोडियम का स्तर कम हो जाता है, तो उसके मस्तिष्क की कोशिकाओं में प्रवाहित होने के कारण दौरा या मिर्गी पड़ती है। बहुत सारे ताजे फल के रस और पानी पीने से शरीर में पर्याप्त सोडियम का स्तर सुनिश्चित हो जाता है और दौरा पड़ना कम हो जाता है।

मिर्गी का रामबाण इलाज है लहसुन की चाय

मिर्गी का रामबाण इलाज है लहसुन की चाय

लहसुन स्वास्थ्य की कई स्थितियों के इलाज के लिए एक उपचारात्मक जड़ी बूटी है, और मिर्गी इसके लिए कोई अपवाद नहीं है। यह मिर्गी का रामबाण इलाज है। आप मिर्गी को प्रभावी ढंग से ठीक करने के लिए दैनिक रूप से लहसुन की चाय को तैयार करके पी सकते हैं। इसके लिए आप गर्म पानी में लहसुन को कुचकर उसमें डालें और चाय बना लें। आपको बहुत ही फायदा मिलेगा।

इसके अलावा लहसुन का सेवन ऑलिसिन के एंटी ऑक्सीडेंट गुणों के कारण कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है। यह रक्तचाप और ब्लड शुगर के स्तर को विनियमित करने के लिए बेहद फायदेमंद है।

डिसक्लेमर : Sehatgyan.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatgyan.com की नहीं है। sehatgyan.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।