कैंसर दिमाग बीमारियां

ब्रेन कैंसर लक्षण, कारण और उपचार

Brain Cancer symptoms, reasons and treatment in hindi.

ब्रेन कैंसर लक्षण, कारण और उपचार - Brain cancer lakshan aur upchar tips

आज हमारे जीवन में जो माहौल बना हुआ है, उसमें हमारे पास आराम करने का समय नहीं है, ऐसे में सिरदर्द एक आम बात है। हम अक्सर ऐसे ही करते हैं कि सिरदर्द हुई तो पेनकिलर ले लिया। क्या आप जानते हैं कि यह सिरदर्द ब्रेन ट्यूमर का लक्षण भी हो सकता है। जब आप को इस बारे में किसी प्रकार की कोई जानकारी नहीं होती, तो आपके मस्तिष्क में एक गंभीर रोग पैदा हो जाता है। मस्तिष्क हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, इसमें लगभग 100 अरब सेल्स पाएं जाते हैं, इसलिए जब हम अपना सही तरीके से ध्यान नहीं रखते, तो इसका सीधा असर हमारे दिमाग में जो सेल्स होते हैं उसमें भी पड़ता है, क्योंकि जब हमारा दिमाग सही ढंग से काम नहीं करता, तो हमारे सेल्स नष्ट होने लगते हैं जिससे हमें ब्रेन कैंसर जैसी गम्भीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इतना ही नही हमारे काम करने की गति भी धीमी हो जाती है। जब भी हम अपने शरीर के साथ थोड़ी सी भी लापरवाही करते हैं, तो उसका नतीजा होता है ब्रेन कैंसर या फिर इसी तरह की कोई और दिमागी बीमारी। जितना हो सके हमें अपने दिमाग को आराम देना चाहिए।

ब्रेन कैंसर के कारण
अगर आप का ब्रेन कैंसर, शरीर के दूसरे भाग से मस्तिष्क तक फैला है तो इसका सही कारण पता करना बहुत ही मुश्किल है। आनुवंशिक कारक, विभिन्न पर्यावरण विषाक्त पदार्थों, हेड रेडिएशन, एचआईवी संक्रमण और धूम्रपान इन सभी से ब्रेन कैंसर हो सकता है।

ब्रेन कैंसर के लक्षण
अगर देखा जाए तो ब्रेन कैंसर के लक्षणों के बारे सही से जानकारी नहीं मिलती। कुछ तो ऐसे ट्यूमर भी देखने को मिलते हैं जैसे, पिट्यूटरी ग्रंथी में पाया जाने वाला ट्यूमर, जिसका पता मृत्यु के बाद भी नहीं चलता है। मस्तिष्क कैंसर के कई लक्षण है, इसलिए जब भी आपको इसके सही लक्षण के बारे में जानकारी मिले तो दैनिक परीक्षण करवाना न भूलें। आपके सामान्य रूप में अधिक पाएं जाने वाले लक्षण कुछ इस प्रकार से है…

सिर में दर्द होना
शरीर में कमजोरी
भद्दापन
चलने में कठिनाई
दौरे पड़ना
इसके इलावा कुछ ऐसे लक्षण भी होते हैं जो कम दिखाई देते हैं जैसे कि :-
मानसिक स्थिति में बदलाव, एकाग्रता, याददाश्त, ध्यान, या सतर्कता में परिवर्तन।
मतली, बार-बार उल्टी आना।
सही तरीके से दिखाई न देना।
रुक-रुक कर बोलना।

ब्रेन कैंसर का उपचार
ब्रेन कैंसर के उपचार में सर्जरी, रेडिएशन, थेरेपी और कीमोथेरेपी शामिल है। ज्यादातर मामलों में, इनमें से एक से अधिक तरीकों का भी प्रयोग किया जा सकता है। ब्रेन कैंसर का उपचार कुछ इस प्रकार से है :-
सर्जरी
बहुत से लोग हैं जिन्हें ट्यूमर होता है और उसे निकालने के लिए सर्जरी करनी पड़ती है। यदि आपका ट्यूमर, ग्रेड 1 में हो, तो ऐसी स्थिति में आपके ट्यूमर की सर्जरी के माध्यम से निकाला जा सकता है। यदि आपके ट्यूमर को सर्जरी के माध्यम से न निकाला जा सके, तो कम से कम आपके ट्यूमर के आकार और लक्षणों को कम किया जा सकता है।

रेडिएशन थेपेरी
कई ऐसे लोग हैं जिनका ट्यूमर सर्जरी के माध्यम से नहीं निकलता या उसकी कुछ कोशिकाएं सर्जरी के बाद भी रह जाती है, तो उनके लिए रेडिएशन थेपेरी का इस्तेमाल किया जाता है।

कीमोथेरेपी
कीमोथेरेपी का प्रयोग कैंसर सेल को खत्म करने के लिए किया जाता है। कैंसर को खत्म करने के लिए कीमोथेरेपी ड्रग्स का इस्तेमाल किया जाता है। इन दवाइयों को मौखिक रूप से अर्थात् मुंह के द्वारा दिया जाता है। अधिकतर लोगो को इसे इन्ट्रावेनस इन्फ्यूजन की प्रक्रिया के द्वारा दिया जाता है।

डिसक्लेमर : Sehatgyan.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatgyan.com की नहीं है। sehatgyan.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

1 Comment

  • Heya i’m for the primary time here. I came across this board and I in finding It truly
    helpful & it helped me out much. I hope to present one thing back and aid others like you helped
    me.

Leave a Comment